Jharkhand Current Affairs 2nd April 2018

By | April 3, 2018

Daily Jharkhand Current Affairs for 2nd April 2018 with important short notes on current events and newspaper summary।

सेंदरा पर्व इसी महीने 

दलमा बुरू सेंदरा समिति गदड़ा के आह्वान पर शिकार खेलने का आगाज हो गया है। दलमा में इसी महीने से सेंदरा पर्व मनाया जायेगा। तीर-धनुष व जंग लग चुके पारंपरिक हथियार को सेंदरा के लिए धारदार व तेज किया जा रहा है। 

दूसरी ओर ढ़ोल-नगाड़े समेत अन्य पारंपरिक वाद्य यंत्रों में तेल लगाकर धूप में सेंका जा रहा है, ताकि उसमें से तेज ध्वनि निकले। रविवार को परसुडीह क्षेत्र के गदड़ा गांव में दलमा राजा राकेश की देखरेख में सेंदरा बैठक हुई। बैठक में तय किया गया कि छह अप्रैल को दिसुआ शिकारी, पारंपरिक स्वशासन व्यवस्था के प्रमुख व बुद्धिजीवियों की उपस्थिति में सेंदरा की तिथि को तय कर गिरा सकाम (निमंत्रण पत्र) तैयार किया जायेगा। 
 
उसके बाद दिसुआ सेंदरा वीरों को गिरा सकाम भेजा जायेगा। श्री हेंब्रम ने बताया कि सेंदरा की तिथि पर सहमति बन गयी है, जिसका सामाजिक रूप से विधिवत खुलासा छह अप्रैल को ही किया जायेगा। उस दिन लो बीर समेत अन्य सांस्कृतिक आयोजन के संबंध में भी विचार-विमर्श किया जायेगा।
 
दलमा राजा राकेश हेंब्रम ने कहा कि सेंदरा की सारी तैयारी पूरी कर ली गयी है। छह अप्रैल को दिसुआ सेंदरा वीर व विभिन्न गांवों के माझी बाबा, नायके व परगना की उपस्थिति में खजूर पते से बना गिरा सकाम तैयार किया़  उसके बाद गिरा सकाम सेंदरा वीरों को भेजा जायेगा़  सेंदरा पर्व का अर्थ केवल जंगली पशुओं का शिकार करना नहीं होता है। सेंदरा पूजा के दौरान अच्छी बारिश के लिए वन देवी-देवताओं की पूजा होती है। 

एनकाउंटर में खूंटी, सरेंडर कराने में लोहरदगा अव्वल

रांची रेंज के पांच जिले रांची, खूंटी, सिमडेगा, गुमला और लोहरदगा में नक्सलियों और उग्रवादियों को एनकाउंटर में मार गिराने में जहां एक ओर खूंटी जिला की पुलिस अव्वल है, वहीं दूसरी ओर नक्सलियों और उग्रवादियों को सरेंडर करा कर मुख्य धारा में लाने में लोहरदगा जिला की पुलिस अव्वल है। 
 
एनकाउंटर में उग्रवादियों को मार गिराने में सिमडेगा जिला पुलिस दूसरे नंबर पर है। आंकड़ा वर्ष 2017 से लेकर 31 मार्च 2018 तक का है।  सरेंडर कराने के मामले में खूंटी दूसरे नंबर पर है।




सर्वश्रेष्ठ सांसद का पुरस्कार निशिकांत दुबे को

फेम इंडिया श्रेष्ठ सांसद पुरस्कार-2018 में 25 सांसदों को पुरस्कृत किया गया। 

इन्हें मिला श्रेष्ठ सांसद का अवार्ड :

प्रभावशाली सांसद की श्रेणी में गुजरात के भाजपा सांसद डॉ। किरीट भाई सोलंकी ने अपना स्थान बनाया। बेजोड़ सांसद की श्रेणी में बिहार के मधेपुरा से सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव टॉप पर रहे। सक्रिय सांसद की श्रेणी में झारखंड के गोड्डा से निशिकांत दुबे ने जगह बनाई तो सरोकार श्रेणी में दिल्ली के सांसद उदित राज, लगन श्रेणी में उत्तर प्रदेश के बांदा से सांसद भैरो प्रसाद मिश्रा और इरादे श्रेणी में रोडमल नागर ने टॉप किया।

हौसला श्रेणी की बात करें, तो हरियाणा के युवा सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने पहला स्थान पाया। विरासत श्रेणी में दुष्यंत चौटाला ने टॉप किया। मजबूत सांसद की श्रेणी में केरल के सांसद एन।के। प्रेमचंद्रन को पहला स्थान मिला। लोकप्रिय श्रेणी में ओम बिड़ला सबसे आगे रहे।

कर्मयोद्धा श्रेणी में राजस्थान के सांसद चंद्रप्रकाश जोशी ने सबसे अधिक नंबर हासिल किया तो जागरूक श्रेणी में उत्तर प्रदेश के सांसद पुष्पेंद्र सिंह चंदेल पहले पायदान पर पहुंचे। जज्बा श्रेणी में शिवसेना के सांसद अरविंद सावंत ने टॉप किया। प्रयत्नशील श्रेणी में ओड़िशा के सांसद रवींद्र कुमार जेना को सबसे अधिक अंक मिले।

शख्सियत श्रेणी में उत्तर प्रदेश के वीरेंदर सिंह मस्त को पहला स्थान प्राप्त हुआ। उत्तराधिकार श्रेणी में पूर्वोत्तर के सांसद गौरव गोगोई टॉप पर रहे। उम्मीद श्रेणी में उत्तर प्रदेश के संत कबीर नगर के सांसद शरद त्रिपाठी पहले स्थान पर रहे। असरदार सांसद की श्रेणी में भाजपा के सांसद सुधीर गुप्ता को पहला स्थान हासिल हुआ।

शानदार सांसद की श्रेणी में ओड़िशा के कलिकेश सिंहदेव सबसे आगे रहे जननायक श्रेणी में तृणमूल कांग्रेस के सांसद सौगात राय की धमक बनी। संघर्षशील श्रेणी में शिरोमणि अकाली दल के प्रेम सिंह चंदूमाजरा ने सबों को पीछे छोड़ा। इसी तरीके से कर्मठ सांसद की श्रेणी में हरियाणा के रमेशचंद्र कौशिक ने टॉप किया।

Facebook Comments
21 Shares