East India’s First Canal Top Solar Plant in Jharkhand

सिकिदिरी नहर पर पूर्वी भारत का पहला केनाल टॉप सोलर प्लांट लगाया जाएगा। इस प्लांट से दो मेगावाट बिजली का उत्पादन किया जाएगा। एक साल के अंदर इस सोलर पावर प्लांट से बिजली का उत्पादन शुरू कर दिया जाएगा। निर्माण Jharkhand Renewable Energy Development Agency Ltd (JREDA) करेगी। गुजरात से दो सदस्यीय विशेषज्ञों की टीम ने स्थल निरीक्षण कर योजना को अंतिम रूप दिया।

टीम के सदस्यों ने इस योजना के बारे में सिकिदिरी के परियोजना प्रबंधक अमर नायक व Jharkhand Renewable Energy Development Agency Ltd (JREDA) के राज्य प्रमुख अरविंद कुमार से इस मामले काे लेकर विचार विमर्श किये। निरीक्षण में पाया गया कि सिकिदिरी नहर पर करीब दस घंटा पर्याप्त सूर्य की रोशनी मिल सकेगी। सिकिदिरी केनाल के जीरो प्वाइंट के आसपास सोलर सिस्टम को प्लांट किया जाएगा।




लागत :

इस योजना को बनाने में करीब 12 करोड़ की लागत आएगी। पूर्वी भारत में इस तरह का यह पहला प्लांट लगाया जा रहा है। प्रस्तावित क्षेत्र के बगल में ही ग्रीड व ट्रांसमिशन लाइन रहने से और फायदा होगा।

क्या है केनाल टॉप सोलर प्लांट :

  • इस योजना के तहत नहर के ऊपर में सोलर पैनल, बैट्री सहित अन्य उपकरणों को प्लांट किया जाता है। गुजरात में यह योजना काफी सफल है। वहां पर हर नहर पर इस तरह का सोलर प्लांट बनाकर गांव-गांव में बिजली की निर्बाद्ध आपूर्ति की जा रही है। दिनभर क्लीन एनर्जी मिलेगी।
  • नहर के पानी को होनेवाली वाष्पीकरण से बचाया जा सकता है। करीब एक हजार परिवारों को बिजली आपूर्ति की जा सकेगी। इस बिजली पावर प्लांट के माध्यम से कई लोगों को रोजगार से भी जोड़ा जा सकेगा। परंपरागत ऊर्जा स्त्रोत पर दबाव घटेगा।
Facebook Comments

You may also like...

error: Content is protected !!